प्रत्येक रचना प्राप्त करें अपनी ईमेल पर...

शनिवार, 21 सितंबर 2013

जो तुम आ जाते एक बार ।-महादेवी वर्मा




जो तुम आ जाते एक बार ।

कितनी करूणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग
आँसू लेते वे पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार ।

हंस उठते पल में आद्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग
आँखें देतीं सर्वस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार ।

1 टिप्पणी:

आप को ये रचना कैसी लगी... अवश्य अवगत कराएं...