प्रत्येक रचना प्राप्त करें अपनी ईमेल पर...

बुधवार, 7 जनवरी 2015

समझना वह मेरा घर है।-अमृता प्रीतम




आज मैंने
अपने घर का नम्बर मिटाया है
और गली के माथे पर लगा
गली का नाम हटाया है
और हर सड़क की
दिशा का नाम पोंछ दिया है
पर अगर आपको मुझे ज़रूर पाना है
तो हर देश के हर शहर की
हर गली का द्वार खटखटाओ
यह एक शाप है यह एक वर है
और जहाँ भी
आज़ाद रूह की झलक पड़े
समझना वह मेरा घर है।

 

1 टिप्पणी:

आप को ये रचना कैसी लगी... अवश्य अवगत कराएं...